श्री अग्रसेन कन्या पीजी कॉलेज में हुआ वार्षिक प्रतियोगिता “रेजोनेंस 2021“ आयोजन

498 Views
Read Time:3 Minute, 7 Second

“इम्यूनिटी बूस्टर रेसिपी इन पोस्ट कोविड पीरियड“ पर आधारित रही प्रतियोगिता
वाराणसी। श्री अग्रसेन कन्या पीजी कॉलेज के गृह विज्ञान संकाय में गुरूवार को वार्षिक प्रतियोगिता “रेजोनेंस 2021“ के अंतर्गत “इम्यूनिटी बूस्टर रेसिपी इन पोस्ट कोविड पीरियड“ पर एक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर महाविद्यालय के प्रबंधक अनिल कुमार जैन ने इस कार्यक्रम को सराहनीय प्रयास बताते हुए छात्राओं को कोविड-19 जैसी महामारी से रक्षा के लिए प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करने हेतु खानपान के महत्व को बताया। प्राचार्या डॉ.कुमकुम मालवीय ने छात्राओं के इस कार्य की प्रशंसा करते हुए उन्हें शारीरिक रूप से स्वस्थ और संयमित रहने की ओर प्रेरित किया।

इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में आई.एम.एस. बीएचयू की प्रोफेसर मानुषी श्रीवास्तव ने “चेन्जिंग परसेप्शन ऑफ पीपल रिगार्डिंग हेल्थ एण्ड हाइजीन इन पोस्ट कोविड पीरियड“ पर अपना संभाषण दिया। विषय की स्थापना संकायाध्यक्ष डॉ.अनीता सिंह एवं धन्यवाद ज्ञापन विभागाध्यक्ष डॉ.सुमन मिश्रा द्वारा किया गया।

वार्षिक प्रतियोगिता “रेजोनेंस 2021“ के अंतर्गत “इम्यूनिटी बूस्टर रेसिपी इन पोस्ट कोविड पीरियड“ पर आधारित प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार मिताली विश्वकर्मा (तृतीय सेमेस्टर, आहार एवं पोषण विभाग), द्वितीय पुरस्कार खुशबू (तृतीय सेमेस्टर, आहार एवं पोषण विभाग), तृतीय पुरस्कार मानसी पांडे (प्रथम सेमेस्टर, मानव विकास विभाग) एवं सांत्वना पुरस्कार अंजलि कश्यप (तृतीय सेमेस्टर,वस्त्र विज्ञान एवं परिधान विभाग) को प्रदान किया गया। प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में प्रोफेसर मानुषी श्रीवास्तव, श्रीमती गीता जैन एवं डॉ.कमलेश दुबे रहीं। इस अवसर पर निशा प्रकाश डाइटिशियन भी उपस्थित रहीं।

कार्यक्रम का संचालन डॉ.विभा सिंह ने किया। इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त संकाय के शिक्षक शिक्षिकाएं मौजूद रही।

1 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नगर निगम द्वारा पुष्कर तालाब में डाली जा रही दवाओं से मरा कछुआ,अन्य जीवों के जीवन पर भी खतरा!

Fri Feb 19 , 2021
कई वर्षों के कुंभकरण निद्रा के बाद अचानक जगे नगर निगम द्वारा अस्सी के पुष्कर तालाब में ज्यादा मात्रा में दवाएं डाली जा रही है जिससे जलीय जीवों के जीवन पर खतरा उत्पन्न हो गया है।   कछुआ जैसा जीव जिसकी मौत आसान नहीं होती।ऐसे जीव की मौत इन दवाओं […]

मुख्य समाचार