होम आइसोलेशन में सुबह से शाम तक की दिनचर्या पर दें विशेष ध्यान

30 Views
Read Time:5 Minute, 38 Second

• होम आइसोलेशन में आक्सीजन लेवल पर रखें ध्यान, रहें सतर्क – सीएमओ
• आक्सीजन का लेवल 95 तक हो तो न हों परेशान
• आक्सीजन लेवल 95 से नीचे हो तो करें डॉक्टर से सम्पर्क
वाराणसी, 20 अप्रैल 2021
कोरोना का सबसे ज्यादा असर फेफड़ों पर होता है। ऐसे में मरीजों को जल्दी-जल्दी सांस लेनी पड़ सकती है और थकान महसूस हो सकती है। इसके लिए यह जरूरी है कि अपने खान-पान पर विशेष ध्यान दें और रोजाना सुबह सांस सम्बन्धी व्यायाम करें। मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) ने बताया कि ऐसे में होम आइसोलेशन में रहने वालों को समय-समय पर अपने आक्सीजन स्तर कि जाँच करते रहना चाहिये। उन्होने बताया कि आक्सीजन का स्तर 95 से अधिक है तो परेशान होने की कोई जरूरत नहीं लेकिन यह 90 से 94 के बीच हो तो तत्काल कंट्रोल रूम या चिकित्सक से सम्पर्क करना चाहिये। आक्सीजन लेवल नीचे जाने से परेशानी बढ़ सकती है और अस्पताल में भी भर्ती होना पड़ सकता है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि कोरोना उपचाराधीन एवं देखभाल करने वाले व्यक्ति नियमित रूप से अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें और अगर कोई बदलाव महसूस करें तो तुरन्त चिकित्सक से सम्पर्क करें। और साथ ही साथ शरीर में आक्सीजन कि संतृप्तता (सेचुरेशन) 95% से कम होती है या सांस लेने में कठिनाई महसूस होती है तो कंट्रोल रूम से संपर्क करना चाहिए। उन्होने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने वाले लक्षण विहीन कोविड पॉज़िटिव मरीजों को एक किट खरीद कर रखना चाहिए, जिसमें पल्स आक्सीमीटर, थर्मामीटर, मास्क, ग्लब्स, सोडियम हाइपोक्लोराइट साल्यूशन और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली वस्तुएँ शामिल हों।
दिनचर्या पर रखें विशेष ध्यान –
मंडलीय चिकित्सालय के वरिष्ठ परामर्शदाता एवं फिजीशियन डॉ एके सिंह ने बताया कि होम आइसोलेशन में घर पर रहते हुये संयमित दिनचर्या होनी चाहिये। आपका कमरा और लैट्रीन- बाथरूम अलग होना चाहिए। सुबह व्यायाम अवश्य करें। तथा समय-समय पर गुनगुना पानी पीते रहें। कम से कम 3 से 4 बार गरारा करें और भाप लें। और मास्क पहने रहें। मास्क से नाक और मुंह को ढक कर रखें। साबुन-पानी से हाथों को बार- बार धोते रहें। इससे घर वाले संक्रमित होने से बचे रहेंगे। कंट्रोल रूम से बताई गई दवाइयों का सेवन करें, जैसे – टैब एजीथ्रोमायसिन 500 एमजी 1 रोज, टैब जेंकोविट 1 रोज, टैब विटामिन सी 1 रोज, बुखार आने पर टैब पैरासिटमऑल 500 एमजी दिन में 3 बार तथा टैब आइवर्मेक्टिन 12 एमजी लगातार 3 दिन तक अवश्य लें। प्रोटीन का सेवन करें। मिर्च और मसाला से दूर रहें। सादा एवं संतुलित भोजन करें। साथ ही साथ आयुर्वेदिक काढ़ा का भी प्रयोग करते रहें। ठंडी चीजों का परहेज करें। इस दौरान आपको ध्यान रखना है कि आपको होम आइसोलेशन में 17 दिन तक रहना है, आप अपने कमरे में 10 दिन तक रहें। 10 दिन के बाद 7 दिन तक कोविड नियमों का पालन करते हुये रूम के बाहर टहल सकते हैं। समस्या होने पर समय से सूचना दें, ताकि स्वास्थ्य टीम मौक़े पर पहुँच कर मदद कर सके या नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर ले जाकर उपचार कराया जा सके।
डॉ. सिंह ने बताया कि लोगों को अगर कोरोना को हराना है तो सार्वजनिक सभाओं या आयोजनों में जाने से बचें, शॉपिंग मॉल्स, सिनेमा हाल में जाने से परहेज करें, अस्पताल में जाएं तो सतर्क रहें। इसलिए बचाव के लिए मास्क,सोशल डिस्टेंसिंग के साथ टीकाकरण कराना भी बेहद जरूरी हैं। सेनेटाइजर का उपयोग करें, रेस्टोरेंट में खाने से परहेज करें, अपनी व्यक्तिगत स्वच्छता का ख्याल रखें, बेवजह बाहर न जाएं, बुजुर्गों और बच्चों का ख्याल रखें। कोरोना काल का एक साल पूरा हुआ और अब दोबारा संक्रमण पाँव पसार रहा है । इसलिए सभी लोग कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें और वैक्सीनेशन करवाएं । इससे हम कोरोना की बढ़ती रफ्तार को काफी हद तक रोक सकते हैं |

0 0

Next Post

जनपद के सभी न्यायालय 26 अप्रैल तक बन्द रहेंगे- जिलाधिकारी

Wed Apr 21 , 2021
वादों की सुनवाई 26 अप्रैल तक स्थगित रहेगी- कौशल राज शर्मा वाराणसी। जिलाधिकारी/जिला मजिस्ट्रेट कौशल राज शर्मा ने बताया कि वर्तमान समय में कोविड-19 वायरस महामारी से वाराणसी जनपद के कई अधिवक्तागण प्रभावित हो गये हैं। इसलिए उन्होंने आदेशित किया है कि संक्रमण से बचाव के लिए महामारी अधिनिमय 1897 […]

मुख्य समाचार